Saturday, 19 December 2015

उम्मीद

गम तो दिए हैं जिंदगी ने लेकिन
उम्मीद है कि दीदारे-यार होगा

बहाने बहुत हैं जीने के लेकिन
जीता हूँ कि विसाले-यार होगा

होती है जब हवाओं में जुंबिश
लगता है तू आस-पास होगा

रात की तन्हाइयाँ डराती नहीं

किसी सुबह तू मेरे साथ होगा

कृपया ध्यान दें

इस ब्लाग पर प्रकाशित किसी भी रचना का रचनाकार/ ब्लागर की अनुमति के बिना पुनः प्रकाशन, नकल करना अथवा किसी भी अन्य प्रकार का दुरूपयोग प्रतिबंधित है।

ब्लागर